Best Quotes Of Yogi Adityanath Quotes




1) मै एक खुली किताब हूँ , इस किताब को कोई भी इन्सान पढ़ सकता है |

2) यदि हमारे एक हाथ में माला है , तो दूसरे हाथ में भाला भी लेकर चलते है |

3) हम लोग केवल उन लोगो को रोकना चाहते है , जो लोग देश को रोकना चाहते है , फिर वह चाहे जिस जति का हो |

4) यदि सामने वाला पक्ष शांति से नहीं रहेगा , तो उसे शांति से रहना सिखांगे | ये उस पर निर्भर करता है , कि वह कौन सी भाषा को समझेगा |

5) मैंने अपने जीवन में प्यार केवल भारत माता से और मेरे को लगता है कि मै दुनिया के सभी बच्चो से प्यार किया है |

6) जो बाते समाज के खिलाफ हो , उन बातो पर हमें आवाज उठानी चाहिए |

7) यदि देश की आधार कमजोर होगा | जो भवन भरभरा कर गिर जायेगा | लेकिन यदि नीव मजबूत है , तो भवन गिल नहीं सकता |

8) एक सन्यासी का सही कर्तव्य होता है कि वह समाज को अच्छा बनाये और दुष्टों को सजा दे |

9) अन्याय किसी के भी साथ न हो , और न ही हम लोग अन्याय को सहेंगे |

10) टाइगर जैसा साहस जिस इन्सान होगा , वही इन्सान टाइगर को दूध पिला सकता

11) एक सन्यासी होने के नाते , जो कुछ सच होगा ,केवल मै वही बोलूँगा |

12) आर्यावर्त में आर्य बनाये , हिन्दुस्तान में हिन्दू बनायेगे |

13) दंगे वही ,जंहा अल्पसंख्यक ज्यादा |

14) भारत देश का राजनेतिक नेतृत्व कैसा होना चाहिए ,ये बात उत्तर प्रदेश तय करता है |

15) मै उत्तर प्रदेश में विकाश मोदी जी के श्लोगन से ही करुगा | वह श्लोगन ये है कि -“सबका साथ ,सबका विकाश ” |

16) पुरे देश में गो हत्या पूरी तरह से बंद होनी चाहिए |

17) एक योगी अपने मन में किसी भी प्रकार की कोई इच्छा नहीं रखता है |

18) यदि माइक नवरात्री में नहीं बजनी चाहिए | तो फिर माइक मुहरम में भी नहीं बजनी चाहिए |

19) कानून मानव के लिए होता है ,न की दानव के लिए |


0 comments:

Post a Comment